Wednesday , 17 January 2018

Home » समाचार » क्षेत्रीय » भारी बारिश से केदारनाथ, गंगोत्री यात्रा बाधित

भारी बारिश से केदारनाथ, गंगोत्री यात्रा बाधित

July 12, 2015 8:10 pm by: Category: क्षेत्रीय, प्रमुख समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़, यात्रा, राष्ट्रीय, समाचार Leave a comment A+ / A-

250px-Gangotri_templeउत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। मैदानी इलाकों में जहां जल भराव की समस्या बनी हुई है, वहीं पर्वतीय क्षेत्रों में हाईवे विभिन्न स्थानों पर ध्वस्त हैं। सुरक्षा के लिहाज से बदरीनाथ, केदारनाथ व गंगोत्री के यात्री विभिन्न स्थानों पर रुके हुए हैं। यमुनोत्री व हेमकुंड यात्रा जारी है। सुबह सौ से अधिक यात्री गोविंदघाट से हेमकुंड के लिए रवाना हुए।

केदारनाथ पैदल मार्ग अवरुद्ध

रात से लगातार हो रही बारिश से रुद्रप्रयाग जिले के करीब 19 मोटर मार्ग मलबा आने से अवरुद्ध हो गए। गौरीकुंड हाईवे भी भैंसवाड़ा के पास अवरुद्ध है। साथ ही केदारनाथ पैदल मार्ग गौरीकुंड से एक किलोमीटर आगे चिरबासा में अवरुद्ध हो गया।

इससे सुरक्षा के लिहाज से सुबह सोनप्रयाग से केदारनाथ यात्रियों का दल रवाना नहीं हुआ। वहीं यात्रा के विभिन्न पड़ावों गौरीकुंड में 22, लिनचौली में 33 यात्रियों को रोका हुआ है। वहीं केदारनाथ में रुके 133 यात्री मौसम खुलने और स्थिति सामान्य होने का इंतजार कर रहे हैं।

सौ यात्रियों का जत्था हेमकुंड रवाना

चमोली में लगातार हो रही बारिश के चलते बदरीनाथ हाईवे जोशीमठ व बदरीनाथ के बीच बेनकुलि, लामबगड़, पागलनाला में मलवा आने से अवरुद्ध हो गया। कई तीर्थ यात्री इन स्थानों से पैदल ही आगे जा रहे हैं। सुरक्षा के लिहाज से प्रशासन ने यात्री वाहनों को पांडुकेश्वर व जोशीमठ में रोका हुआ है। वहीं, कर्णप्रयाग-गैरसैण हाईवे भी भटोली के पास अवरुद्ध हो गया। जिलाधिकारी ने चमोली में बारिश के चलते पांचवी तक के सभी विद्यालय को बंद रखने के निर्देश दिए हैं।

गंगोत्री यात्रा बाधित

उत्तरकाशी में लगातार बारिश के चलते लालढांग के पास गंगोत्री हाईवे अभी भी अवरुद्ध है। इससे विभिन्न पड़ावों में यात्री रुके हुए हैं। साथ ही हाईवे बंद होने से तीस से ज्यादा गांव अलग थलग पड़े हैं। भागीरथी गंगा व सहायक नदियां उफान पर हैं।

टिहरी में बदरीनाथ हाईवे कीर्तिनगर के निकट मूल्यागांव में अवरुद्ध है। नरेंद्रनगर के पास बगडधार में गंगोत्री हाईवे को भी भारी वाहनों के लिए बंद किया हुआ है। साथ ही टिहरी जिले के 24 संपर्क मार्ग बंद हैं। सुबह टिहरी झील का जल स्तर 761 मीटर पर था। टिहरी में घनसाली-घुत्तू मार्ग पर पुश्ता ढहने से भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है।

गंगा का जल स्तर बढ़ा

पौड़ी में 12 संपर्क मार्ग बंद

लगातार बारिश से सड़कों पर आ रहे मलबे के चलते पौड़ी जनपद के 12 संपर्क मार्ग अवरुद्ध हैं। रिखणीखाल ब्लॉक कार्यालय की चारदीवारी बारिश के दौरान ध्वस्त हो गई।

पहाड़ों में लगातार हो रही वर्षा से गंगा के जलस्तर में वृद्धि होने लगी है। ऋषिकेश में गंगा चेतावनी रेखा से 46 सेंटीमीटर नीचे बह रही है। उप जिलाधिकारी संतोष कुमार पांडेय और सीओ सीपी अंथवाल ने गंगा तटों का मुआयना कर बाढ़ सुरक्षा इंतजामों की जानकारी ली। गढ़वापल में पिछले 12 घंटे में 63.3 मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गई। श्रीनगर में सबसे अधिक 195.6 मिमी, देवप्रयाग में 122.9 मिमी, देहरादून में 116.3 मिमी, मरोड़ा में 102.3 मिमी, टिहरी में 82.4 मिमी, रुद्रप्रयाग में 71.6 मिमी, हरिद्वार में 65.2 मिमी, उत्तरकाशी में 51.8 मिमी, जोशीमठ में 38.0 मिमी, कर्णप्रयाग में 38.6 मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गई।

देहरादून, हरिद्वार, रुड़की में भी सुबह से बारिश हो रही है। शहर के विभन्न मोहल्लो के साथ ही सड़कों पर जलभराव की समस्या बनी हुई है। बुग्गवाला क्षेत्र की नदियां उफान पर हैं।

कुमाऊं में भी रुक-रुक कर बारिश हो रही है। रुद्रपुर, बागेश्वर, चंपावत, पिथौरागढ़, नैनीताल, हल्द्वानी के कुछ स्थानों पर बारिश हो रही है।

भारी बारिश से केदारनाथ, गंगोत्री यात्रा बाधित Reviewed by on . उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। मैदानी इलाकों में जहां जल भराव की समस्या बनी हुई है, वहीं पर्वतीय क्षेत्रों में हाईवे विभिन्न उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। मैदानी इलाकों में जहां जल भराव की समस्या बनी हुई है, वहीं पर्वतीय क्षेत्रों में हाईवे विभिन्न Rating: 0

Leave a Comment

scroll to top