Sunday , 19 November 2017

Category: साहित्य

Feed Subscription
  • मैं नास्तिक क्यों हूँ? -भगत सिंह

    मैं नास्तिक क्यों हूँ? -भगत सिंह

    एक नई समस्‍या उठ खड़ी हुई है - क्‍या मैं किसी अहंकार के कारण सर्वशक्तिमान सर्वव्‍यापी तथा सर्वज्ञानी ईश्‍वर के अस्तित्‍व पर विश्‍वास नहीं करता हूँ? मैंने कभी कल्‍पना भी न की थी  कि ...

  • बिंदा  -महादेवी वर्मा

    बिंदा -महादेवी वर्मा

    भीत-सी आंखों वाली उस दुर्बल, छोटी और अपने-आप ही सिमटी-सी बालिका पर दृष्टि डाल कर मैंने सामने बैठे सज्जन को, उनका भरा हुआ प्रवेशपत्र लौटाते हुए कहा- 'आपने आयु ठीक नहीं भरी है। ठीक क ...

  • चित्रमंदिर: क्या सृष्टि एक दिन में स्वर्ग बन जायगी

    चित्रमंदिर: क्या सृष्टि एक दिन में स्वर्ग बन जायगी

    रजनी का अन्धकार क्रमश: सघन हो रहा था. नारी बारम्बार अँगड़ाई लेती हुई सो गयी. तब भी आलिंगन के लिए उसके हाथ नींद में उठते और गिरते थे. जब नक्षत्रों की रश्मियां उज्ज्वल होने लगीं, और ...

  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जीवन-परिचय

    नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जीवन-परिचय

    नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा में कटक के एक संपन्न बंगाली परिवार में हुआ था। बोस के पिता का नाम 'जानकीनाथ बोस' और माँ का नाम 'प्रभावती' था। जानकीनाथ बोस कट ...

मैं नास्तिक क्यों हूँ? -भगत सिंह

मैं नास्तिक क्यों हूँ? -भगत सिंह

एक नई समस्‍या उठ खड़ी हुई है - क्‍या मैं किसी अहंकार के कारण सर्वशक्तिमान सर्वव्‍यापी तथा सर्वज्ञानी ईश्‍वर के अस्तित्‍व पर विश्‍वास नहीं करता हूँ? मैंने कभी कल्‍पना भी न की थी  क ...

Read More »
बिंदा  -महादेवी वर्मा

बिंदा -महादेवी वर्मा

भीत-सी आंखों वाली उस दुर्बल, छोटी और अपने-आप ही सिमटी-सी बालिका पर दृष्टि डाल कर मैंने सामने बैठे सज्जन को, उनका भरा हुआ प्रवेशपत्र लौटाते हुए कहा- 'आपने आयु ठीक नहीं भरी है। ठीक ...

Read More »
चित्रमंदिर: क्या सृष्टि एक दिन में स्वर्ग बन जायगी

चित्रमंदिर: क्या सृष्टि एक दिन में स्वर्ग बन जायगी

रजनी का अन्धकार क्रमश: सघन हो रहा था. नारी बारम्बार अँगड़ाई लेती हुई सो गयी. तब भी आलिंगन के लिए उसके हाथ नींद में उठते और गिरते थे. जब नक्षत्रों की रश्मियां उज्ज्वल होने लगीं, और ...

Read More »
नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जीवन-परिचय

नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जीवन-परिचय

नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा में कटक के एक संपन्न बंगाली परिवार में हुआ था। बोस के पिता का नाम 'जानकीनाथ बोस' और माँ का नाम 'प्रभावती' था। जानकीनाथ बोस क ...

Read More »
दीवाली की मुस्कान

दीवाली की मुस्कान

दीवाली के दिन लक्ष्मी पूजन का समय हो गया था। पर बच्चे, फुलझड़ियाँ , अनार छोड़ने में मस्त -- ।  तभी दादाजी की रौबदार आवाज सुनाई दी -देव --दीक्षा --शिक्षा जल्दी आओ --मैं तुम सबको एक ...

Read More »
तिरंगे का इतिहास

तिरंगे का इतिहास

प्रत्‍येक स्‍वतंत्र राष्‍ट्र का अपना एक ध्‍वज होता है। यह एक स्‍वतंत्र देश होने का संकेत है। भारतीय राष्‍ट्रीय ध्‍वज की अभिकल्‍पना पिंगली वैंकैयानन्‍द ने की थी और इसे इसके वर्तमान ...

Read More »
अपने ही नगर में उपेक्षित मैथली शरण गुप्त

अपने ही नगर में उपेक्षित मैथली शरण गुप्त

एक ओर राष्ट्र कवि मैथलीसरण गुप्त की जयंती पूरे भारत मे हर्ष और उल्लास के साथ मनाई जाती है  कवियों की जब भी बात आती है सबसे ऊपर मैथली शरण गुप्त का ही नाम आता है। राष्ट्र कवि की कवि ...

Read More »
मृग, काग और धूर्त गीदड़ की कहानी

मृग, काग और धूर्त गीदड़ की कहानी

मगध देश में चंपकवती नामक एक महान अरण्य था, उसमें बहुत दिनों में मृग और कौवा बड़े स्नेह से रहते थे। किसी गीदड़ ने उस मृग को हट्ठा- कट्ठा और अपनी इच्छा से इधर- उधर घूमता हुआ देखा, इसक ...

Read More »
गिल्लू:- महादेवी वर्मा

गिल्लू:- महादेवी वर्मा

सोनजुही में आज एक पीली कली लगी है। इसे देखकर अनायास ही उस छोटे जीव का स्मरण हो आया, जो इस लता की सघन हरीतिमा में छिपकर बैठता था और फिर मेरे निकट पहुँचते ही कंधे पर कूदकर मुझे चौंक ...

Read More »
जाने-माने गांधीवादी, पत्रकार, पर्यावरणविद् अनुपम मिश्रा का निधन

जाने-माने गांधीवादी, पत्रकार, पर्यावरणविद् अनुपम मिश्रा का निधन

जाने-माने गांधीवादी, पत्रकार, पर्यावरणविद् और जल संरक्षण के लिए अपना पूरा जीवन लगाने वाले अनुपम मिश्र का सोमवार को दिल्ली के एम्स में निधन हो गया. वो 68 बरस के थे. हिंदी के दिग्गज ...

Read More »
scroll to top